वो मैच जब सचिन तेंदुलकर ने 175 रन बनाए, भारत आखिरी तीन ओवर में मैच हार गया

Sachin Tendulkar: Cricket: History: India vs Australia: भारत के पूर्व कप्तान सचिन तेंदुलकर… जी हां सचिन भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान रहे थे लेकिन उनकी पहचान एक महान बल्लेबाज के रूप हुई। पूर्व बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने क्रिकेट करियर में कुल 100 शतक जड़े। वनडे में 49 और टेस्ट में 51 शतक सचिन ने जड़े थे। 24 साल के करियर में सचिन तेंदुलकर के बल्ले ने भारत को कई बार मैच जिताया। हालांकि बाजार में ये काफी बोला जाता है कि सचिन तेंदुलकर जब भी शतक बनाते थे, भारत मैच हारता था। सच्चाई ये है कि जीत में शतकों का प्रतिशत ज्यादा रहा।

India vs Australia 2009 ODI Match

इस आर्टिकल में 2009 में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए मुकाबले को याद कर रहे हैं, जिसमें सचिन ने शानदार 175 रनों की पारी खेली थी लेकिन टीम आखिरी तीन ओवर में मैच हार गई। 5 नवंबर 2009 को हैदराबाद (उप्पल स्टेडियम ) में दोनों ही टीमों के बीच रोमांचक मुकाबला खेला गया था। ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी की और 350 रन बना डाले। ऑस्ट्रेलिया के लिए शॉन मार्श ने 112 गेंदों में 112 रनों की पारी खेली थी। इसके अलावा शेन वॉट्सन ने 93 रन , रिकी पोंटिग 45, कॉमरून ग्रीन 57 और माइक हसी ने 31 रन बनाए थे। भारत के लिए प्रवीण कुमार ने 2, आशीष नेहरा 1 और हरभजन ने एक विकेट अपने नाम किया था। ऑस्ट्रेलिया ने 50 ओवर में 350 रन बनाए और उसने केवल 4 विकेट ही खोए।

ALSO READ:  वर्ल्ड चैंपियनशिप ऑफ लीजेंड्स में 2007 टी-20 जैसा माहौल बन गया, एक बार स्कोरकार्ड देखें

Sachin Tendulkar century

लक्ष्य काफी बड़ा था। आज की तरह ये लक्ष्य हासिल करना मतलब दिन में सपने देखना जैसा होता था। उस वक्त 2009 में इतना बड़ा लक्ष्य भारत में कभी हासिल भी नहीं किया गया था। भारत की बल्लेबाजी आई तो सचिन तेंदुलकर ने मोर्चा संभाल लिया। सचिन ने इस तरह बल्लेबाजी की जैसे वो मुकाबले को 5 ओवर पहले खत्म करने की सोच रहे हों लेकिन दूसरे छोर से उन्हें साथ नहीं मिला। सुरेश रैना ने 59 रन बनाए, इसके अलावा कोई भी बड़ा स्कोर नहीं बना सका जिससे दवाब सचिन से कम होता।

पहले विकेट के लिए सचिन और वीरेंद्र सहवाग ने 66 रन जोड़े। सहवाग ने 38 रन बनाए। इसके बाद गौतम गंभीर 8, युवराज 9 और महेंद्र सिंह धोनी ने केवल 6 रन बनाए। हालांकि सभी खिलाड़ियों ने अधिक गेंद खेली और दूसरी ओर सचिन ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाजों को बेहाल कर रहे थे। सचिन को देखकर ऐसा लग रहा था जैसे कोई युवा खेल रहा हो। सचिन ने 141 गेंदों में 175 रन बनाए। उनके बल्ले से 19 चौके और 4 छक्के निकले। 100 रन उन्होंने केवल बाउंड्री से जुटाए और उस उम्र में 75 रन दौड़कर। भारत ये मैच आखिरी में तीन रन से हारा और दो गेंद उसकी बच गई थी। प्रवीण कुमार रन आउट हो गए थे।

ALSO READ:  क्रिकेट के इतिहास में नया रिकॉर्ड, गेंदबाज के रूप में जेम्स एंडरसन ने कमाल कर दिया

Sachin Out and India lost

दोबारा सचिन पर वापस आते हैं, रैना के साथ 137 रनों साझेदारी ने भारत को मैच में बनाए रखा था। सचिन ने 81 गेंदों में शतक जमाया और 122 गेंदों में 150 रन का आंकड़ा भी छू लिया था। सचिन का एक-एक रन भारत को मैच के करीब ला रहा था लेकिन 47 ओवर की पहली गेंद में क्लिंट मैक्के ने उन्हें आउट कर दिया। भारत का स्कोर 332 रन था। यानी 17 गेंदों में उसे 19 रन चाहिए थे। इसके बाद दो विकेट तुरंत गिरे। आखिरी ओवर में प्रवीण कुमार ने एक छक्का लगाया लेकिन फिर रन आउट हो गए। भारत मैच हार गया था लेकिन सचिन ने जो 175 रन बनाए थे वो आज भी क्रिकेट फैंस याद करते हैं। इस मैच में ही सचिन ने वनडे क्रिकेट में 17000 रन भी पूरे किए थे। कई फैंस इस पारी को ट्रेलर कहते हैं क्योंकि 3 महीने बाद ही सचिन ने वनडे में दोहरा शतक बनाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *